Shadow

Tag: poshan yojna

आंगनबाड़ी केन्द्रों के बंद होने पर भी घर-घर पहुंचकर रेडी टू ईट पोषण आहार का वितरण

आंगनबाड़ी केन्द्रों के बंद होने पर भी घर-घर पहुंचकर रेडी टू ईट पोषण आहार का वितरण

chhattisgarh, Govt Schemes, News
बलौदाबाजार. आंगनबाड़ी के बच्चों को केन्द्र के बंद होने पर भी पोषण सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है। केन्द्र की कार्यकर्ता एवं सहायिकाएं बच्चों के घर जाकर सूखी रेडी टू ईट भोजन पहुंचा रही है। अपने घर में ही पोषक भोजन सामग्री पाकर बच्चे और उनके अभिभावक खुश है। जिले की 1 हजार 950 आंगनबाड़ी के लगभग 48 हजार बच्चों को इस योजना फायदा मिल रहा है। गौरतलब है कि आंगनबाड़ी केन्द्र में 3 से 6 वर्ष तक के बच्चों को सामान्य दिनों में गरम भोजन खिलाया जाता है। लेकिन शासन के आदेशानुसार आंगनबाड़ी केन्द्रों के बंद होने पर उन्हें इसके बदले सूखा पोषण सामग्री रेडी टू ईट के रूप में घर -घर उपलब्ध कराया जा रहा है। नाॅवल कोरोना वायरस से संक्रमण की रोकथाम व नियंत्रण हेतु राज्य शासन द्वारा प्रदेश के सभी आंगनबाड़ी एवं मिनी आंगनबाड़ी केन्द्रों को 31 मार्च 2020 तक बंद कर दिया गया है। शासन ने आंगनबाड़ी केन्द्रों के बंद रहने की
उत्तर बस्तर कांकेर : कुपोषण मुक्ति एवं गरीबी उन्मूलन के लिए लक्ष्य बना कर काम करें – मुख्य सचिव श्री आर.पी.मण्डल

उत्तर बस्तर कांकेर : कुपोषण मुक्ति एवं गरीबी उन्मूलन के लिए लक्ष्य बना कर काम करें – मुख्य सचिव श्री आर.पी.मण्डल

chhattisgarh, Govt Schemes, News
उत्तर बस्तर कांकेर. प्रदेश के मुख्य सचिव श्री आर.पी. मण्डल ने जिला कार्यालय के सभाकक्ष में अधिकारियों की बैठक लेकर गरीबी उन्मूलन, एनिमिक महिलाओं एवं बच्चों को कुपोषण से मुक्त करने और जिले को मलेरिया मुक्त करने के लिए लक्ष्य बनाकर दिल से काम करने के निर्देश देते हुए कहा कि मलेरिया से मुक्ति के लिए ग्रामीणों को मच्छरदानी का वितरण किया जाए और उसके साथ ही उन्हें मच्छरदानी का उपयोग के लिए भी प्रेरित किया जावे। महिला एवं बाल विकास के माध्यम से इसे अभियान के रूप में चलाने के निर्देश उनके द्वारा दिये गये। उन्होंने कहा कि जिले को मलेरिया मुक्त बनाने के लिए सभी परिवारों को पर्याप्त मच्छरदानी प्रदाय करने के अलावा इसका उपयोग भी सुनिश्चित करने के लिए लोगों को नियमित रूप से प्रेरित किया जावे। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं तथा मैदानी अमले के माध्यम से लोगों तक इसकी समुचित जानकारी देने एवं प्रचार-प्रसार कर
कोण्डागांव : मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के गर्म भोजन से महका अतिसंवेदनशील ग्राम ‘बेचा‘

कोण्डागांव : मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के गर्म भोजन से महका अतिसंवेदनशील ग्राम ‘बेचा‘

chhattisgarh, Govt Schemes, News, special
कोण्डागांव. 2 अक्टूबर से प्रारंभ हुए मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के गर्म पौष्टिक भोजन की  महक अब अतिसंवेदनशील ग्राम बेचा से भी आने लगी है । विगत दिनों जिले के विकासखंड कोण्डागांव के ग्राम बेचा में ‘नावा बेस्ट नार्र‘ के अंतर्गत विशेष पहल के अंतर्गत लक्षयित एनिमिक महिलाओं एवं कुपोषित बच्चों को गर्म पौष्टिक भोजन खिलाया गया। ज्ञात हो कि ग्राम बेचा के अंतर्गत लगभग 1 हजार की जनसंख्या निवासरत है, जिसमे 60 महिलाओं में 11 ग्राम से कम रक्त एवं 10 बच्चे मध्यम गम्भीर कुपोषित पाए गए हैं। इन परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए कलेक्टर नीलकण्ठ टीकाम के निर्देश पर ग्राम के नोडल अधिकारी प्रकाश बागड़े द्वारा प्रयास करते हुए सरपंच शामबती कोर्राम, उपसंरपच बजर सिंह कश्यप, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता शांति कश्यप, राजमती कोर्राम, महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता ममता गढपाले एवं मितानिन सुदनी कोर्राम के सहयोग से ग्राम में म
धमतरी : राज्यपाल सुश्री उइके ने आंगनबाड़ी केंद्र मरादेव में महिलाओं को सौंपी सुपोषण टोकरी

धमतरी : राज्यपाल सुश्री उइके ने आंगनबाड़ी केंद्र मरादेव में महिलाओं को सौंपी सुपोषण टोकरी

chhattisgarh, News, special
धमतरी. प्रदेश की राज्यपाल सुश्री अनुसुइया उइके ने अपने दो दिवसीय धमतरी प्रवास के दौरान आज आंगनबाड़ी केंद्र मरादेव (गंगरेल) का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने आज अपराह्न आंगनबाड़ी केंद्र मरादेव पहुंचकर नौनिहाल बच्चों से संक्षिप्त भेंट की तथा उनसे चर्चा भी की। इस अवसर पर केन्द्र में मौजूद 03 कुपोषित बच्चे हर्षिता, दुलेश और उर्वशी व 02 एनीमिक महिला श्रीमती प्रतिभा, श्रीमती सोहद्रा को सुपोषण टोकरी राज्यपाल ने अपने हाथों से भेंट किया तथा खानपान पर ध्यान देने की नसीहत दी गई। इस अवसर पर कलेक्टर श्री रजत बंसल ने राज्यपाल सुश्री उइके को जानकारी दी कि सुपोषण अभियान में जिले के कुपोषित व एनीमिक महिलाओं को प्रतिदिन गरम भोजन व अंडा दिया जाता है। इस अवसर पर राज्यपाल के सचिव श्री सोनमणि बोरा, पुलिस अधीक्षक श्री बी.पी. राजभानू, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्रीमती नम्रता गांधी, जिला कार्यक्रम अधिक
पोषण पखवाड़ा: आंगनबाड़ी कार्यकर्ता गांव-गांव, घर-घर जाकर पोषण का दे रही संदेश, विविध कार्यक्रमों के जरिए लोगों को किया जा रहा जागरूक

पोषण पखवाड़ा: आंगनबाड़ी कार्यकर्ता गांव-गांव, घर-घर जाकर पोषण का दे रही संदेश, विविध कार्यक्रमों के जरिए लोगों को किया जा रहा जागरूक

chhattisgarh, News
नारायणपुर | नारायणपुर जिले सहित पूरे छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में बीती 8 तारीख से बच्चों में कुपोषण की कमी लाने के लिए पोषण पखवाड़े की शुरूआत हो गई है। इस कार्यक्रम के तहत आगंनबाड़ी कार्यकताओं द्वारा ग्राम खोड़गांव, बखरूपारा, केरलापाल आदि ग्रामों में घर-घर जाकर महिला और पुरूषों से मिली और उन्हें बच्चों को सुपोषित आहार देने की समझाईश दी। उन्होंने आंगनबाड़ी केन्द्रों में बच्चों के वजन लेने और बच्चों को साफ-सफाई के साथ रहने सहित हाथ धोकर भोजन-आहार लेने को कहा। इस दौरान टीकाकरण दिवस भी मनाया गया। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और मितानिन के द्वारा उपस्थित बच्चों का वजन लिया गया। जागरूकता के लिए दीवारों पर नारे भी लिखे गए। पोषण पखवाड़ा महिला एवं बाल विकास विभाग की ओर से किया जा रहा है, यह कार्यक्रम 8 मार्च से 22 मार्च तक चलेगा। इस कार्यक्रम के तहत महिलाओं के साथ-साथ पुरूषों को भी विशेष रूप से सुपोषण क
रायपुर : प्रदेश में पोषण पखवाडा 8 मार्च से शुरू, मंत्री श्रीमती भेंडिया ने सुपोषण रथ को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

रायपुर : प्रदेश में पोषण पखवाडा 8 मार्च से शुरू, मंत्री श्रीमती भेंडिया ने सुपोषण रथ को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना

chhattisgarh, Govt Schemes, News
महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेंड़िया ने 8 मार्च पोषण पखवाड़ा के शुभारंभ अवसर पर राजधानी के वन कॉलोनी स्थित अपने निवास से जनजागरूकता के लिए सुपोषण रथ को हरी झंडी दिखाकर प्रदेश के विभिन्न जिलों के लिए रवाना किया। इस दौरान महिलाओं ने श्रीमती भेंड़िया कोे पोषण पखवाड़ा का संदेश ‘पोषण मेरी भी जिम्मेदारी...‘ लिए राखी बांधी। यह रथ रायपुर सहित बिलासपुर, राजनांदगांव, बालोद और कोरबा जिले के ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में घूम कर सुपोषण का संदेश देगा। छत्तीसगढ़ को कुपोषण मुक्त करने के लिए राष्ट्रीय पोषण अभियान के तहत प्रदेश में पोषण पखवाड़ा आज 8 मार्च से शुरू होकर 22 मार्च तक चलेगा। इस दौरान प्रदेश भर में सुपोषण के प्रति जन-जागरूकता के प्रयास किये जाएंगे और स्वास्थ्य सुुरक्षा संबंधी कई कार्यक्रम आयोजित होंगे। मंत्री श्रीमती भेंडिया ने इस अभियान के सूत्र वाक्य ’सही पोषण देश रोशन’ को अपनाने के ल
मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान : 5 हजार 309 बच्चों को मिली कुपोषण से मुक्ति

मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान : 5 हजार 309 बच्चों को मिली कुपोषण से मुक्ति

chhattisgarh, Govt Schemes, News
रायपुर. मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के माध्यम से जांजगीर-चांपा जिले के 5 हजार 309 कुपोषित बच्चों को कुपोषण से मुक्ति मिली है। मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के तहत 06 माह से तीन वर्ष तक के कुपाषित बच्चों को और आंगनबाड़ी में दर्ज शिशुवती माताओं को पौष्टिक गरम भोजन दिया जा रहा है। जिला प्रशासन द्वारा विगत दिनों 636 स्थानों पर शिविर लगाकर एक लाख 6 हजार से अधिक महिलाओं व बच्चों का हिमोग्लोबीन जांच किया गया। जिले में 15 पोषण पुनर्वास केन्द्र संचालित है। इन केन्द्रों में गंभीर कुपोषित बच्चों को 15 दिन भर्ती रखकर उपचार किया जाता है। महिला एवं बाल विकास विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार चिन्हांकित किये गये कुपोषित बच्चों के अभिभावकों को परामर्श देकर राज्य सरकार की मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान का लाभ लेने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। जिला प्रशासन द्वारा मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के प्रचार-प्रसार पर
नारायणपुर : बच्चों को मिले सही पोषण, हम सबकी जिम्मेदारी

नारायणपुर : बच्चों को मिले सही पोषण, हम सबकी जिम्मेदारी

chhattisgarh, News, special
नारायणपुर. आंगनबाड़ी केन्द्रों और स्कूलों में नन्ने-मुन्ने बच्चों से हंसी-ठिठोली कर स्नेह से बच्चों का दिल जीता जा रहा है। कलेक्टर श्री पी.एस. एल्मा ने ऐसी अभिनव पहल की है, जिससे बच्चें भी खुलकर कलेक्टर से बात कर रहे है। समय-समय पर उनके हाथों से मिले उपहार से तो वे खुशी से फूले नहीं समाते। कई बार ऐसा मौका भी आया है जब उन्होंने बच्चों से कविता सुनी और प्रोत्साहन स्वरूप उन्होंने किताबे और फल दिए। जिले में सरकारी कार्यक्रमों के माध्यम से गर्भवती महिलाओं की पूरे विधि-विधान से गोदभराई रस्म की जाती है। इसके बाद छह माह की आयु पूरे कर चुके बच्चों को खीर खिलाकर अन्नप्राषन भी कराया जाता है। इस आत्मीयता से महिलाएं और बच्चें मंत्रगुग्ध है। यह कहने या बताने की बात नहीं, हम सब जानते है कि बच्चें देश का भविष्य होते हैं। उन्हें सही पोषण, स्वास्थ्य और शिक्षा मिले, ये सुनश्चिित करना हम सभी की जिम्मेद
रायपुर : कुपोषित अनन्या को मिली सेहतमंद जिंदगी, सुपोषण अभियान की एक और कामयाबी

रायपुर : कुपोषित अनन्या को मिली सेहतमंद जिंदगी, सुपोषण अभियान की एक और कामयाबी

chhattisgarh, Govt Schemes, News, special
रायपुर। प्रदेशव्यापी मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान से कई कुपोषित बच्चों को स्वस्थ जीवन मिला है,उनमें से एक हैं दुर्ग जिले की एक साल की नन्ही अनन्या यादव। भिलाई-3 की रहने वाली अनन्या के चेहरे की मुस्कान देखकर अन्दाजा लगाना मुश्किल है कि सिर्फ चार माह पहले ये बच्ची गंभीर कुपोषण का शिकार थी। नियमित देखरेख से कुमारी अनन्या महज चार महीनों में कुपोषण को मात देकर अब सेहतमंद जिन्दगी जी रही है। जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि आंगनबाड़ियों में कार्यकर्ताओं की लगन और सुपरवाइजर तथा परियोजना अधिकारी की सतत मॉनिटरिंग से अच्छे नतीजे सामने आ रहे है। कुमारी अनन्या का प्रकरण काफी चुनौती भरा था। नियमित देखरेख से कम समय में ही अनन्या को कुपोषण के जाल से मुक्त किया जा सका है। उन्होंने बताया कि अनन्या जन्म से ही काफी कमजोर थी। 6 नवम्बर 2018 को जन्म के समय उसका वजन सिर्फ 1 किलो 600 किलोग्राम था। आंगनबाड़ी के
बेमेतरा : सुपोषण अभियान के तहत मध्यम एवं गम्भीर कुपोषित बच्चों को गरम भोजन एवं खिचडी प्रदाय

बेमेतरा : सुपोषण अभियान के तहत मध्यम एवं गम्भीर कुपोषित बच्चों को गरम भोजन एवं खिचडी प्रदाय

chhattisgarh, News
बेमेतरा. मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के तहत 06 माह से 03 वर्ष के मध्यम एवं गंभीर कुपोषित बच्चों को सुपोषित किये जाने अतिरिक्त पोषण आहार के रूप में हितग्राहियों को गरम भोजन खिचड़ी प्रदाय का कार्य जिले मे प्रारंभ किया गया है। बच्चों को प्रतिदिन 100 ग्राम खिचड़ी दिया जावेगा, साथ ही शिशुवती माताओं को व गंभीर एनिमिक माताओं को 250 ग्राम गरम भोजन खिचड़ी प्रदाय किया जा रहा है ताकि बच्चे सुपोषण की ओर अग्रसर हो सके व माताओं के स्वास्थ्य में सुधार हो सके। उक्त कार्य एन.आर.एल.एम. के समूह व स्थानीय स्व सहायता समूह को सौंपा गया है। जिले की 6 बाल विकास परियोजनाओं में प्रतिकात्मक रूप से गरम भोजन प्रदाय का कार्य प्रारंभ किया गया। परियोजना बेरला, बेमेतरा, साजा, नवागढ़, नांदघाट, खण्डसरा की परियोजनाओं में 619 शिशुवती महिलाओं को व 10 गंभीर एनीमिक महिलाओं को एवं 06 माह से 03 वर्ष के 463 मध्यम कुपोषित बच्चों एव