Shadow

Tag: durg

दुर्ग : पट्टाधारियों को भूमिस्वामी हक मिलना शुरू, नवीनीकरण सहित कई परेशानियों से मिली मुक्ति, शनिचरी बाजार में आवेदकों को मिला भूमि स्वामी का अधिकार

दुर्ग : पट्टाधारियों को भूमिस्वामी हक मिलना शुरू, नवीनीकरण सहित कई परेशानियों से मिली मुक्ति, शनिचरी बाजार में आवेदकों को मिला भूमि स्वामी का अधिकार

chhattisgarh, Govt Schemes, News
दुर्ग. अपने पट्टे को भूमिस्वामी हक में परिवर्तित करने की नागरिकों को सुविधा देने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की पहल का लाभ लेना नागरिकों ने आरंभ कर दिया है। इसके लिए अनेक आवेदन नजूल कार्यालय में आए हैं। यहां पर प्राप्त आवेदनों पर तेजी से कार्रवाई की जा रही है। ऐसे कुछ आवेदकों को आज ही भूमि स्वामी हक प्राप्त हुआ। दुर्ग जिले में डेढ़ महीने पहले शनिचरी बाजार में श्याम सेनेटरी के संचालक श्री अंकित गुप्ता ने अपने पट्टे में भूमिस्वामी हक के लिए आवेदन किया था। उनके आवेदन पर तेजी से कार्रवाई की गई और आज उन्हें भूमिस्वामी हक प्रदान किया गया। श्री अंकित ने बताया कि भूमिस्वामी हक मिलने से उन्हें बार-बार लीज के नवीनीकरण कराने के झंझट से मुक्ति मिल गई। साथ ही निश्चित रूप से भूमिस्वामी हक मिल जाने की वजह से प्रापर्टी का रेट भी पहले से बेहतर हो जाएगा। अंकित ने बताया कि उन्हें गाइडलाइन दर की कीमत का मात
गढ़बो डिजिटल छत्तीसगढ़ : सारक्षता भवन दुर्ग में ई-साक्षरता केन्द्र का शुभारंभ

गढ़बो डिजिटल छत्तीसगढ़ : सारक्षता भवन दुर्ग में ई-साक्षरता केन्द्र का शुभारंभ

chhattisgarh, Govt Schemes, News
रायपुर। मुख्यमंत्री शहरी कार्यात्मक साक्षरता कार्यक्रम अंतर्गत आज नगर पालिका निगम दुर्ग परिक्षेत्र में ’गढ़बो डिजिटल छत्तीसगढ़’ के तहत साक्षरता भवन दुर्ग में ई-साक्षरता केन्द्र का शुभारंभ विधायक श्री अरूण वोरा द्वारा की-बोर्ड का बटन दबाकर किया गया। उन्होंने इस अवसर पर उपस्थित महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में संचार क्रांति का युग है। इसमें सभी माता-बहनों को डिजिटली साक्षर होना जरूरी है। छत्तीसगढ़ सरकार का यह सबसे नवाचारी कार्यक्रम है। यह योजना बहुत अच्छी है, इसे प्रत्येक वार्ड में प्रारंभ किया जाना चाहिए। दुर्ग जिले में यह चौथा केन्द्र है। इसके पूर्व नगर निगम भिलाई परिक्षेत्र में खुर्सीपार, नगर पंचायत पाटन और नगर पंचायत उतई ई-साक्षरता केन्द्र प्रारंभ हो चुके है। इन केन्द्रों में 14 से 60 आयु वर्ग की माता-बहनों को डिजिटल साक्षर किया जा रहा है। एक माह की प्रशिक्षण अवधि होती
मुख्यमंत्री ने अमेरिका से प्रवास के दौरान भी दुर्ग की दिव्यांग छात्रा अविका पाल की पढ़ाई की दिक्कत दूर की

मुख्यमंत्री ने अमेरिका से प्रवास के दौरान भी दुर्ग की दिव्यांग छात्रा अविका पाल की पढ़ाई की दिक्कत दूर की

chhattisgarh, News
रायपुर | दिव्यांग छात्रा अविका पाल की पढ़ाई की दिक्कत अब दूर हो गई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दुर्ग जिले के कलेक्टर को निजी स्कूल शंकराचार्य विद्यालय के प्रबंधन से चर्चा कर छात्रा की आगे की पढ़ाई के संबंध में हल निकालने निर्देश दिए थे। मुख्यमंत्री के निर्देश के पश्चात जिला प्रशासन से हुई चर्चा में स्कूल प्रबंधन इस सत्र की फीस से छात्रा को राहत देने तैयार हो गया है। अब अविका अपनी पढ़ाई अच्छी तरह से जारी रख पाएगी। अविका की पढ़ाई की राह की दिक्कतें दूर हो गई है। ज्ञातव्य है कि शंकराचार्य विद्यालय की पांचवी कक्षा की छात्रा अविका पाल को फीस नहीं जमा हो पाने की दिक्कत के कारण इस सत्र में पढ़ाई में मुश्किल आने के प्रकरण के संज्ञान में आने पर मुख्यमंत्री ने त्वरित पहल करते हुए दुर्ग जिला प्रशासन को स्कूल प्रबंधन से चर्चा कर छात्रा की आगे की पढ़ाई के संबंध में हल निकालने निर्देश दिए थे।
दुर्ग : मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक में मजदूर को मिली नई जिंदगी, सही समय पर मिला इलाज सेहत में आने लगा सुधार

दुर्ग : मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक में मजदूर को मिली नई जिंदगी, सही समय पर मिला इलाज सेहत में आने लगा सुधार

chhattisgarh, News, special
दुर्ग. मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना सेलूद के मंगतराम बदला हुआ नामद्ध की जिंदगी बदल देगी ये तो वह खुद भी नहीं जानता था। मंगतराम का बायां पैर सुन्न हो गया था और चेहरा भी खराब होने लगा था। शर्मिंदगी के कारण काम काज तो दूर घर के बाहर निकलना भी छोड़ दिया था। शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से परेशान मंगतराम के गांव सेलूद में जब मुख्यमंत्री हाट बाजार योजना के तहत 14 जनवरी 2020 को स्वास्थ्य शिविर लगाया गया। परिवार वालों ने समझाया कि कहीं दूर जाने की जरूरत नहीं है अब गांव में ही डॉक्टर आए हैं एक बार जाकर दिखवा लो। जैसे तैसे वह शिविर तक गया डॉक्टर द्वारा की जांच में ही पता लग गया कि मंगतराम को कुष्ठ है। उसके पैरों के नीचे से जैसे जमीन ही निकल गई हो। अब उसे सामाजिक बहिष्कार एअपंगता और मृत्यु का भय सताने लगा लेकिन डॉक्टरों ने उसे समझाया कि डरने की कोई बात नहीं है। कुष्ठरोग का इलाज मुमकिन
क्राफ्ट बाजार भिलाई में दिखी भारत के विभिन्न शिल्प संस्कृति की झलक

क्राफ्ट बाजार भिलाई में दिखी भारत के विभिन्न शिल्प संस्कृति की झलक

chhattisgarh, News, special, tourism
छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प विकास बोर्ड द्वारा दस दिवसीय अखिल भारतीय क्राफ्ट बाजार भिलाई में विभिन्न राज्यों से आए हस्तशिल्प कलाकरों की उत्कृष्ट कलाकृतियों की विविधता की झलक देखने को मिल रही है, जो ग्राहकों के लिए आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। उल्लेखनीय है कि ग्रामोद्योग मंत्री गुरू रूद्रकुमार ने दुर्ग शहर विधायक श्री अरूण वोरा की अध्यक्षता में 12 से 21 तक फरवरी तक चलने वाले इस दस दिवसीय क्राफ्ट बाजार मेले का शुभारंभ किया था। क्राफ्ट बाजार में आंध्रप्रदेश के हैदराबादी ज्वेलरी, कर्नाटक के बिड ज्वेलरी, झारखंड का हैंड इमाब्राइडरी, जम्मू-कश्मीर का हैण्डलूम एवं शॉल, पश्चिम बंगाल का हैण्ड ब्लॉक प्रिंटिंग मटेरियल, खुरजा उत्तरप्रदेश के सिरेमिक पॉट एवं आकर्षक गुलदस्तेें के अलावा दिल्ली, हरियाणा, जयपुर, अहमदाबाद, महाराष्ट्र राज्यों एवं छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध हस्तशिल्प एवं हैण्डलूम कोसा के उत्पाद इ
सुपोषण अभियान : दुर्ग के मास्टर बिनेश को मिली कुपोषण से मुक्ति, सुपोषण अभियान की एक और सफलता

सुपोषण अभियान : दुर्ग के मास्टर बिनेश को मिली कुपोषण से मुक्ति, सुपोषण अभियान की एक और सफलता

chhattisgarh, News, special
दुर्ग। मुख्यमंत्री सुपोषण मिशन अभियान योजना के तहत दुर्ग जिले के पाटन पोषण पुनर्वास केन्द्र में कुपोषित बच्चों को उपचार और पौष्टिक आहार देकर सुपोषित किया जा रहा है। हाल में ही इस केन्द्र में कुपोषित मास्टर बिनेश को इलाज के लिए भर्ती किया गया था। देखभाल और उपचार से अब वह पूरी तह से स्वस्थ हो गया है। कुपोषण से बाहर निकलकर अब वह सामान्य बच्चों की तरह खेलकूद रहा है। उसे हंसते-मुस्कुराते देखकर मां-बाप एवं परिवार के लोग प्रसन्न है। मास्टर बिनेश जब पोषण पुनर्वास केन्द्र में भर्ती हुआ था तब वह अत्यंत कुपोषित था। चिकित्सकों ने उसकी स्थिति को देखते हुए पोषण पुनर्वास केन्द्र में भर्ती कर उपचार और नियमित देखभाल तथा डाइटिशयन द्वारा पौष्टिक आहार खिलाने की सलाह दी गई। पुनर्वास केन्द्र में 15 दिनों तक मिली उपचार और देखभाल से बिनेश के स्वास्थ्य में निरंतर सुधार आता गया। पूरी तरह से स्वस्थ होने के बा
कोरोना वायरस : चीन से छत्तीसगढ़ लाैटे के तीन संदिग्धों छात्रों में काेराेना वायरस नहीं, पुणे से आई जाँच रिपोर्ट में खुलासा

कोरोना वायरस : चीन से छत्तीसगढ़ लाैटे के तीन संदिग्धों छात्रों में काेराेना वायरस नहीं, पुणे से आई जाँच रिपोर्ट में खुलासा

chhattisgarh, News
रायपुर। चीन से लौटे दुर्ग के तीन संदिग्धों में कोरोना वायरस की पुष्टि नहीं हुई है। पुणे के राष्ट्रीय वायरोलॉजी लैब से शुक्रवार को तीनों की रिपोर्ट भेजी गई। रिपोर्ट आने के बाद स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने राहत की सांस ली। हालांकि अभी दो संदिग्धों की रिपोर्ट आनी बाकी है। इनमें एक दुर्ग व दूसरा अंबिकापुर का है। दोनों वहां पढ़ाई करने गए थे। दूसरी ओर अचानक हो रही बारिश व तापमान गिरने से स्वाइन फ्लू का खतरा बढ़ गया है। एक संदिग्ध मिल भी गया है। फिलहाल देवेंद्रनगर के एक निजी अस्पताल में स्वाइन फ्लू संदिग्ध का इलाज चल रहा। विशेषज्ञों के अनुसार वातावरण में अभी नमी ज्यादा है। इसी तरह का मौसम में स्वाइन फ्लू के वायरस एच1एन1 पनपते के लिए अनूकुल रहता है। खतरा शुरू भी हो चुका है। हालांकि अभी जो संदिग्ध मरीज सामने आए हैं, वे किसी काम से अहमदाबाद गए थे। वहां से लौटने के बाद ही उनकी तबीयत बिगड़ी। मरीज
पंचायत चुनाव 2020 : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने परिवार सहित कुरूदडीह पहुंचकर किया मतदान, दंतेवाड़ा में 12 नक्सलियाें ने सरेंडर से पहले मतदान किया

पंचायत चुनाव 2020 : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने परिवार सहित कुरूदडीह पहुंचकर किया मतदान, दंतेवाड़ा में 12 नक्सलियाें ने सरेंडर से पहले मतदान किया

chhattisgarh, News
रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पाटन ब्लॉक के कुरूदडीह ग्राम में मतदान किया। गांव में प्राथमिक शाला में मतदान केंद्र बनाया गया है। मुख्यमंत्री के साथ उनकी धर्मपत्नी मुक्तेश्वरी बघेल के साथ ही पुत्रियों स्मिता बघेल, दिव्या बघेल और दीप्ति बघेल व पुत्र चैतन्य बघेल ने भी मतदान किया। वही छत्तीसगढ़ में पंचायत चुनाव के दूसरे चरण के मतदान के दौरान शुक्रवार को दंतेवाड़ा में 12 नक्सलियों ने सरेंडर किया। सरेंडर करने वाले इन नक्सलियाें में चार महिलाएं भी शामिल हैं। खास बात यह रही कि सरेंडर करने से पहले यह नक्सली सूरनार गांव में बनाए गए मतदान केंद्र पर पहुंचे। वहां पर वोट डाला। सरेंडर करने वाले नक्सलियों में एक लाख का इनामी नक्सली भी है। शासन की ओर से सरेंडर करने वाले सभी नक्सलियों को 10-10 हजार रुपए की सहायता राशि दी है।
रायपुर : कुपोषण के जाल से बाहर आई बिंदिया, मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान से आया परिर्वतन

रायपुर : कुपोषण के जाल से बाहर आई बिंदिया, मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान से आया परिर्वतन

chhattisgarh, Govt Schemes, News, special
दुर्ग। एकीकृत बाल विकास परियोजना दुर्ग (शहरी) के परिक्षेत्र-बोरसी अंतर्गत वार्ड क्रं.-48 उत्कल नगर दुर्ग अंतर्गत पिता श्री लिंगराज एवं माता श्रीमती सरिता के घर तीन साल पहले 8 अक्टूबर को दूसरी संतान के रूप में एक स्वस्थ बालिका ने बिंदिया जन्म लिया। माता-पिता पुत्री के जन्म से प्रसन्न थे। लेकिन निम्न आय वर्ग से संबंधित होने के कारण जीविकोपार्जन हेतु बच्ची को उसके 5 वर्षीय बड़े भाई के साथ घर पर छोड़ कर जाने लगे, जिसके कारण बच्ची धीरे-धीरे कुपोषण का शिकार होंने लगी। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के द्वारा राज्य सरकार की महत्वकांक्षी योजना मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान अंतर्गत दुर्ग जिले में सुपोषण अभियान का शुभारंभ गांधी जयंती के दिन हुआ। योजना अंतर्गत कुपोषित बच्चों एवं एनीमिक महिलाओं को क्रमशः कुपोषण एवं एनीमिया मुक्त करने का लक्ष्य रखा गया। इसी योजना अंतर्गत बच्ची कुमारी बिंदिया को भी शामिल
दुर्ग पुलिस की बड़ी कामयाबी हैकर्स को किया गिरफ्तार, लोगों के खातों से ऑनलाइन निकालते थे पैसे

दुर्ग पुलिस की बड़ी कामयाबी हैकर्स को किया गिरफ्तार, लोगों के खातों से ऑनलाइन निकालते थे पैसे

chhattisgarh, News
दुर्ग. छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले की पुलिस ने लोगों के खातों से मोटी रमक निकालने वालों को पकड़ा है। हैकिंग के जरिए कुछ युवकों का गिरोह पिछले कई दिनों से देश के कई राज्यों के लोगों को ठग चुका है। बीते मई महीने में भिलाई के युवक से इसी तरह 5 लाख की ठगी की गई थी। इस मामले की जांच करते हुए पुलिस ने उत्तरप्रदेश के कुछ शहरों से 4 युवकों को गिरफ्तार किया। इनका एक सरगाना देवी अब भी फरार है। देवी पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर है। गिरफ्तार किए गए सभी युवक पढ़े-लिखे अपराधी हैं। जो अपनी योग्यता का इस्तेमाल जरुरतमंद लोगों को ठगने में कर रहे थे। पुलिस ने इस मामले में विजेंद्र शर्मा, पवन श्रीवास्तव, संदीप राय और नवीन शर्मा को पकड़ा है। पॉश कॉलोनी में रहता था बदमाश, पुलिस को बनना पड़ा कुरियर ब्वॉय  गिरफ्तार आरोपियों में से एक पवन श्रीवास्तव बेहद नोएडा की एक पॉश कॉलोनी में रहता था। यहां जाने वाले लोगों को अपने