Shadow

Tag: bhupesh baghel

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से छत्तीसगढ़ प्रशिक्षित डीएड एवं बीएड संघ के पदाधिकारियों ने की मुलाकात

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से छत्तीसगढ़ प्रशिक्षित डीएड एवं बीएड संघ के पदाधिकारियों ने की मुलाकात

chhattisgarh
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से आज यहां उनके निवास कार्यालय में छत्तीसगढ़ प्रशिक्षित डीएड एवं बीएड संघ के पदाधिकारियों ने मुलाकात कर राज्य में शिक्षकों की 14 हजार 580 पदों पर नियुक्ति की अनुमति दिए जाने के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया। संघ के पदाधिकारियों ने इसे एक ऐतिहासिक निर्णय बताते हुए कहा कि आपके नेतृत्व वाली सरकार ने कोरोना संकट काल में शिक्षकों की भर्ती की अनुमति देकर पूरे देश के लिए एक उदाहरण प्रस्तुत किया है। इस अवसर पर संसदीय सचिव श्री विकास उपाध्याय, वरिष्ठ विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा, खनिज विकास निगम के अध्यक्ष श्री गिरीश देवांगन, सर्वश्री आर.पी. सिंह, संजीव शुक्ला, छत्तीसगढ़ प्रशिक्षित डीएड एवं बीएड संघ के अध्यक्ष दाउद खान, सचिव सुशांत शेखर धराई, सुश्री अन्नपूर्णा पाण्डेय, अनिरूद्ध साहू सहित संघ के अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे। संघ के अध्यक्ष श्री दाउद खान ने कहा कि 23 साल...
रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कार्ययोजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए केंद्र सरकार से मांगा सहयोग

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कार्ययोजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए केंद्र सरकार से मांगा सहयोग

Central Govt, chhattisgarh, politics
नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सीआरपीएफ के अतिरिक्त बटालियन की तैनाती के साथ मोबाइल टावरों की स्थापना की मांग बस्तर के युवाओं के लिए विशेष भर्ती रैली और बस्तरिया बटालियन के गठन का किया आग्रह मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने नक्सल उन्मूलन की कार्ययोजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए केंद्र से सहयोग मांगा है। इस संबंध में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने देश के गृहमंत्री श्री अमित शाह को पत्र लिखते हुए पूर्व में आबंटित 7 सीआरपीएफ बटालियनों को राज्य को अतिशीघ्र उपलब्ध कराने की मांग की है। इसके साथ ही उन्होंने बस्तर के युवाओं के लिए विशेष भर्ती रैली एवं एक अतिरिक्त बस्तर बटालियन के गठन का भी आग्रह किया है। पत्र में श्री बघेल ने लिखा है कि वर्ष 2018 में गृह मंत्रालय द्वारा छत्तीसगढ़ राज्य के लिए 7 अतिरिक्त सीआरपीएफ बटालियन आबंटित की गई थी, जिसे दक्षिण बस्तर के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में तैनात ...
पोरा तिहार: जसगीत की लय पर दी ढोलक पर थाप देते हुए जमकर थिरके मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

पोरा तिहार: जसगीत की लय पर दी ढोलक पर थाप देते हुए जमकर थिरके मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

chhattisgarh
मुख्यमंत्री निवास में आज तीजा-पोरा त्यौहार पर आयोजित कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ी गीतों की आकर्षक प्रस्तुति दिलीप षडंगी और साथियों ने दी। कार्यक्रम में महिलाओं का उत्साह देखते ही बन रहा था। मुख्यमंत्री भी अपने आपको इस खुशी के मौके पर रोक नहीं पाए। उन्होंने कलाकारों का हौसला बढ़ाने के लिए उनके साथ जसगीत की लय पर ढोलक पर थाप दी और गीत की लय पर कलाकारों के साथ थिरके। इस अवसर पर उनका साथ महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया, विधायक मोहन मरकाम, छत्तीसगढ़ राज्य खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरीश देवांगन, महिला आयोग की अध्यक्ष किरणमयी नायक, रायपुर नगर निगम के महापौर ऐजाज ढेबर ने भी दिया। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री निवास में विगत वर्ष से छत्तीसगढ़ी पर्वों को मनाने की शुरूआत की गई है। मुख्यमंत्री निवास में प्रदेश के विभिन्न स्थानों से बहनों को तीजा-पोरा पर्व के लिए आमंत्रित किया गया था। उनके लिए म...
‘पोरा-तीजा‘ तिहार की रंग में रंगा मुख्यमंत्री निवास, सीएम बोले- कोरोना संक्रमण से बचकर तीजा मनाना है

‘पोरा-तीजा‘ तिहार की रंग में रंगा मुख्यमंत्री निवास, सीएम बोले- कोरोना संक्रमण से बचकर तीजा मनाना है

chhattisgarh
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के रायपुर निवास में आज लगातार दूसरे साल परंपरागत पोरा-तीजा का तिहार छत्तीसगढ़ी संगीतमय वातावरण में हर्षाेल्लास के साथ मनाया गया। मुख्यमंत्री बघेल ने अपनी धर्मपत्नी मुक्तेश्वरी बघेल के साथ कार्यक्रम में शामिल होकर भगवान शिवमुख्यमंत्री ने विशाल शिवलिंग की पूजा कर प्रदेशवासियों के सुख-समृद्धि की कामना की। उन्होंने नांदिया-बैला, चुकिया, पोरा, जांता की पूजा की और छत्तीसगढ़ के विशिष्ट व्यंजन चीला का भोग लगाया। उन्होंने इस अवसर पर सभी माताओं और बहनों को त्यौहार की बधाई और शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री निवास में पोरा-तीजा तिहार के लिए विशेष इंतजाम किये गये। मुख्यमंत्री निवास परिसर को छत्तीसगढ़ की परम्परा और रीति-रिवाज के अनुसार सजाया गया था। निवास पूरी तरह छत्तीसगढ़िया रंग में रंगा नजर आया। छत्तीसगढ़ी लोक संगीत, नृत्य, ठेठरी, खुरमी, चीला, मालपूआ जैसे पारंपरिक पकवान के इंतजाम किए ...
फोटो: मुख्यमंत्री बघेल के रायपुर निवास में आज पारम्परिक रूप में हर्षोल्लास के साथ पोरा-तीजा तिहार मनाया गया…

फोटो: मुख्यमंत्री बघेल के रायपुर निवास में आज पारम्परिक रूप में हर्षोल्लास के साथ पोरा-तीजा तिहार मनाया गया…

chhattisgarh
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के रायपुर निवास में आज पारम्परिक रूप में हर्षोल्लास के साथ पोरा-तीजा तिहार मनाया गया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने अपनी धर्मपत्नी श्रीमती मुक्तेश्वरी बघेल के साथ कार्यक्रम में शामिल होकर भगवान शिव, नांदिया बैला और जाता-पोरा की पूजा अर्चना कर प्रदेश की सुख-समृद्धि और खुशहाली की कामना की। उन्होंने इस अवसर पर सभी माताओं और बहनों को त्यौहार की बधाई और शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर राज्य सभा सांसद छाया वर्मा, फूलोदेवी नेताम, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंड़िया, गृह मंत्री  ताम्रध्वज साहू, संसदीय सचिव रश्मि आशीष सिंह और शकुंतला साहू, विधायक मोहन मरकाम, अनिता योगेन्द्र शर्मा, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष किरणमयी नायक, पूर्व सांसद करूणा शुक्ला सहित जनप्रतिनिधि और माताएं-बहनें उपस्थित थे। ...
राजीव गांधी किसान न्याय योजना: सीएम बघेल 20 अगस्त को 19 लाख किसानों के खातों में अंतरित करेंगे 1500 करोड़ रूपए की दूसरी किश्त

राजीव गांधी किसान न्याय योजना: सीएम बघेल 20 अगस्त को 19 लाख किसानों के खातों में अंतरित करेंगे 1500 करोड़ रूपए की दूसरी किश्त

chhattisgarh
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपने मंत्री मण्डल के सहयोगियों के साथ पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न स्वर्गीय श्री राजीव गांधी की जयंती 20 अगस्त को अपने निवास कार्यालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित कार्यक्रम में राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत प्रदेश के 19 लाख किसानों को 1500 करोड़ रूपए की दूसरी किश्त की राशि का ऑनलाईन अंतरण करेंगे। मुख्यमंत्री इस अवसर पर तेंदूपत्ता संग्राहकों को वर्ष 2018 के प्रोत्साहन पारिश्रमिक के रूप में 232.81 करोड़ की राशि उनके खातों में अंतरित करेंगे साथ ही गोधन न्याय योजना के तहत गोबर विक्रेताओं को दूसरे पखवाड़े में बेचे गए गोबर की राशि का अंतरण भी करेंगे। छत्तीसगढ़ सरकार की राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत प्रदेश के 19 लाख किसानों को 5750 करोड़ की अनुदान सहायता राशि दी जा रही है। जिसमें प्रथम किश्त के रूप में 1500 करोड़ की राशि राजीव गांधी जी के शहादत...
प्रदेश के 11.46 लाख से अधिक तेंदूपत्ता संग्राहकों को मिलेगा, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आयोजित होगा कार्यक्रम

प्रदेश के 11.46 लाख से अधिक तेंदूपत्ता संग्राहकों को मिलेगा, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आयोजित होगा कार्यक्रम

chhattisgarh
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपने मंत्री मण्डल के सहयोगियों के साथ पूर्व प्रधानमंत्री भारतरत्न स्वर्गीय राजीव गांधी की जयंती 20 अगस्त को अपने निवास कार्यालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित कार्यक्रम में राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत प्रदेश के 19 लाख किसानों को 1500 करोड़ रूपए की दूसरी किश्त की राशि का ऑनलाईन अंतरण करेंगे। मुख्यमंत्री इस अवसर पर तेंदूपत्ता संग्राहकों को वर्ष 2018 के प्रोत्साहन पारिश्रमिक के रूप में 232.81 करोड़ की राशि उनके खातों में अंतरित करेंगे साथ ही गोधन न्याय योजना के तहत गोबर विक्रेताओं को दूसरे पखवाड़े में बेचे गए गोबर की राशि का अंतरण भी करेंगे। प्रदेश के 11.46 लाख से अधिक तेंदूपत्ता संग्राहकों को मिलेगा इस अवसर पर प्रदेश के 114 विकासखण्डों के अंतर्गत तेंदूपत्ता संग्रहण वर्ष 2018 सीजन में 728 समितियों के 11 लाख 46 हजार 626 तेंदूपत्ता संग्राहकों को 2...
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पोला तिहार की बधाई दी, पारंपरिक रूप से सजाया गया निवास, बनाया गया सेल्फी जोन

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पोला तिहार की बधाई दी, पारंपरिक रूप से सजाया गया निवास, बनाया गया सेल्फी जोन

chhattisgarh, special, tourism
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों विशेष रूप से किसान भाइयों को पारंपरिक पोला तिहार की बधाई और शुभकामनाएं दी है। इस अवसर पर सीएम बघेल ने नागरिकों के सुख-समृद्धि एवं खुशहाली की कामना की है। अपने शुभकामना संदेश में उन्होंने कहा है कि पोला तिहार छत्तीसगढ़ की परम्परा, संस्कृति और लोक जीवन की गहराइयों से जुड़ा है। ठेठरी, खुरमी अउ गुड़ चीला संग नंदिया बइला के पूजा करबो। हमर छत्तीसगढ़ राज मां बढ़िया फसल अउ खुसहाली के आसीरवाद मांगबो। पोरा तिहार के बहुत बधाई। कोरोना काल के‌ सावधानी ला झन भुलाहू। pic.twitter.com/XXfxcBwvFt — Bhupesh Baghel (@bhupeshbaghel) August 18, 2020 छत्तीसगढ़ की परंपरा और संस्कृति से जुड़े पोला-तीजा पर्व पर भी कोरोना का असर पड़ा है। पर्व को सादगी से मनाया जाएगा। इस बार बैल दौड़ प्रतियोगिता नहीं होगी। बच्चे सिर्फ अपने घरों में ही मिट्टी के बैल दौड़ाएंगे। वहीं, मुख्यम...
नवगठित गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही जिले को मिली कई सौगात, मरवाही को नगर पंचायत बनाने की घोषणा समेत कई योजनाओं का भी क्रियान्वयन किया गया

नवगठित गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही जिले को मिली कई सौगात, मरवाही को नगर पंचायत बनाने की घोषणा समेत कई योजनाओं का भी क्रियान्वयन किया गया

chhattisgarh, Govt Schemes
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज विश्व आदिवासी दिवस पर अपने निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही जिले के जनप्रतिनिधियों और हितग्राहियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करते हुए क्षेत्र की मांगों एवं समस्याओं की जानकारी ली तथा त्वरित रूप से क्षेत्र के लिए अनेक विकास कार्याें की स्वीकृति भी प्रदान की। उन्होंने कहा कि हमने 15 अगस्त 2019 को गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही जिले के गठन की घोषणा की गई थी और 10 फरवरी 2020 को इस जिले का गठन किया गया। जिले के गठन के साथ ही शासन का यह प्रयास रहा है कि जिले का सर्वांगीण विकास तेजी से हो। उन्होंने कहा कि जिले के गठन उपरांत क्षेत्र के विकास की गति तीव्र हुई है। उन्होंने कहा कि नव-गठित जिले में सभी आधारभूत सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जल्द से जल्द यहां सारी प्रशासनिक सेवाए...
वनाधिकार दिलाने में छत्तीसगढ़ पूरे देश में अव्वल, सीएम बघेल ने कहा, जल जंगल जमीन ही नहीं बल्कि वनवासियों को हमने शासन-प्रशासन की ताकत भी सौंपी

वनाधिकार दिलाने में छत्तीसगढ़ पूरे देश में अव्वल, सीएम बघेल ने कहा, जल जंगल जमीन ही नहीं बल्कि वनवासियों को हमने शासन-प्रशासन की ताकत भी सौंपी

chhattisgarh, Govt Schemes
विश्व आदिवासी दिवस का गरिमामय कार्यक्रम मुख्यमंत्री निवास कार्यालय में आयोजित हुआ। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, मंत्रीगणों, संसदीय सचिवों, विधायकों एवं जनप्रतिनिधियों तथा आदिवासी समाज के गणमान्य लोगों की मौजूदगी में कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल सहित अतिथियों द्वारा आंगादेव, बूढ़ादेव एवं मां दंतेश्वरी की पूजा-अर्चना से हुआ। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपने उद्बोधन में आगे कहा कि आदिवासी समाज प्रकृति और  प्राकृतिक संसाधनों का सबसे बड़ा संरक्षक रहा है। प्रकृति से निकटता और प्राकृतिक संसाधनों का संतुलित दोहन भावी पीढ़ी के बेहतर जीवन के लिए जरूरी है। उन्होंने कहा कि विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर हमें आदिवासी समाज के हित के सभी पहलुओं पर समग्रता से विचार करना चाहिए। उन्होंने आदिवासी समाज के प्रत्येक सदस्य और संगठन से अपील की कि वे अपने अधिकारों और विकास के अवसरों के बारे में ...