Shadow

Tag: bastar

मुख्यमंत्री ने बस्तर विशेष बल के गठन के दिए निर्देश  : संवेदनशील क्षेत्रों की ग्राम पंचायतों के स्थानीय युवाओं की होगी भर्ती

मुख्यमंत्री ने बस्तर विशेष बल के गठन के दिए निर्देश : संवेदनशील क्षेत्रों की ग्राम पंचायतों के स्थानीय युवाओं की होगी भर्ती

chhattisgarh, politics
रायपुर। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में आयोजित पुलिस विभाग की समीक्षा बैठक में बस्तर विशेष बल के गठन के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि इसके लिए त्वरित कार्रवाई की जाए। इस विशेष बल में बस्तर के संवेदनशील क्षेत्रों की ग्राम पंचायतों के स्थानीय युवाओं की भर्ती की जाए, इससे स्थानीय लोगों को राहत मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि बस्तर अंचल की कठिन भौगोलिक परिस्थितियां और स्थानीय भाषा की जानकारी पुलिस के लिए बड़ी चुनौती है। यदि अंदरूनी गांवों के युवाओं की बल में भर्ती की जाएगी तो पुलिस का काम और ज्यादा आसान हो जाएगा। पुलिस मुख्यालय द्वारा विशेष बल के गठन का प्रस्ताव तैयार कर जल्द ही शासन को भेजा जाएगा। बैठक में गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू भी उपस्थित थे। जेल में बंद आदिवासियों की रिहाई और चिटफण्ड मामलों की हर माह की जाए समीक्षा मुख्यमंत्री ने समीक्षा बैठक...
दंतेवाड़ा: नक्सलियों ने दो युवकों को गोपनीय सैनिक बताकर मार डाला, इनमें से एक की शादी तय कर लौट रहे थे परिजन

दंतेवाड़ा: नक्सलियों ने दो युवकों को गोपनीय सैनिक बताकर मार डाला, इनमें से एक की शादी तय कर लौट रहे थे परिजन

chhattisgarh
दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने दो ग्रामीणों की हत्या कर दी। उनके परिजन को भी बेरहमी से पीटा। नक्सलियों ने सड़क पर फेंके गए शवों के पास बैनर लगाकर उन्हें गोपनीय सैनिक बताया है। उधर, एसपी अभिषेक पल्लव ने मारे गए ग्रामीणों के सैनिक होने से इनकार किया है। घटना शुक्रवार सुबह की है। परिजन मारे गए युवकों में से एक की शादी तय कर लौट रहे थे। किरंदुल थानाक्षेत्र के तोकापारा निवासी ग्रामीण बेटे अशोक कुंजम की शादी तय करने के लिए बीजापुर के डूडी टुन्नार गए थे। वहां से लौटने के दौरान शुक्रवार सुबह नक्सलियों ने हरेली गांव के पास उन्हें रास्ते में रोक लिया। इसके बाद बंदा कुंजम, अशोक कुंजम सहित उनके परिजन से मारपीट शुरू कर दी। नक्सलियों ने हत्या के लिए एसपी को बताया जिम्मेदार नक्सलियों ने अशोक कुंजम और बंदा कुंजम की हत्या कर दी। शव के पास नक्सलियों ने एक बैनर भी लगा दिया। इसमें दोनों को गोपनीय सैनिक बता...
बस्तर में युवा वॉलिन्टियर्स के कोविड-19 जागरूकता कार्यक्रम को नीति आयोग ने सराहा

बस्तर में युवा वॉलिन्टियर्स के कोविड-19 जागरूकता कार्यक्रम को नीति आयोग ने सराहा

chhattisgarh, politics
रायपुर. भारत सरकार के नीति आयोग द्वारा आकांक्षी जिला बस्तर में युवा वॉलिन्टियर के द्वारा कोविड-19 से बचाव हेतु किए जा रहे कार्यों की सराहना की है। युवा वॉलिन्टियरों के द्वारा अपनों का ध्यान कार्यक्रम के तहत् बुजुर्ग नागरिकों को कोविड-19 से बचाव हेतु जागरूक करने और सोषल तथा फिजिकल दूरी का पालन करते हुए सेनेटाईजर का प्रयोग व समय-समय पर हाथ धुलाई के लिए प्रेरित किया जा रहा है। युवाओं द्वारा बस्तर के गांवों में कोविड-19 से सुरक्षा के लिए घर-घर लोगों को जागरूक किया जा रहा है। कलेक्टर श्री रजत बंसल ने भी युवा वॉलिन्टियरों को जागरूकता कार्यक्रम के लिए अपनी शुभकामनाएं दी है।...
लोगों को लुभा रहे तुंबा शिल्प के मनमोहक लैम्प : बस्तर अंचल में हस्तशिल्प विकास बोर्ड द्वारा दिया जा रहा प्रशिक्षण

लोगों को लुभा रहे तुंबा शिल्प के मनमोहक लैम्प : बस्तर अंचल में हस्तशिल्प विकास बोर्ड द्वारा दिया जा रहा प्रशिक्षण

Uncategorized
छत्तीसगढ़ के हस्तशिल्प कलाकारों द्वारा बनाए जा रहे मनमोहक तुम्बा लैम्प की मांग बाजारों में बढ़ती जा रही है। तुंबा के विभिन्न आकार-प्रकार वाले यह आकर्षक लैम्प अब लोगों के घर और बेडरूम की शोभा बनने लगे हैं। इन मनमोहक और आकर्षक लैम्पों का निर्माण नारायणपुर एवं बस्तर जिले आदिवासी शिल्पियों द्वारा किया जा रहा है। इसकी बाजार में बढ़ती मांग को देखते हुए हस्तशिल्प बोर्ड द्वारा अब इसका वृहद पैमाने पर प्रशिक्षण देकर निर्माण शुरू किए जाने की पहल की गई है। सूखे हुए तुंबे पर  शिल्प कलाकार  विभिन्न आकार-प्रकार की सुंदर कृतियां उकेर कर उन्हें मनमोहक और  आकर्षक रूप देते हैं। हस्तशिल्प बोर्ड द्वारा इस हस्त शिल्पकला को पुर्नजीवित कर ग्रामीण युवाओं को रोजगार दिलाने का प्रयास किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि ग्रामोद्योग मंत्री गुरु रुद्रकुमार ने  छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प विकास बोर्ड द्वारा तुंबा शिल्प को बढ़ावा द...
मुख्यमंत्री से कोया-कुटमा समाज बस्तर संभाग के सदस्यों ने की मुलाकात : संभाग स्तरीय सामाजिक सामुदायिक भवन और संग्रहालय की मांग

मुख्यमंत्री से कोया-कुटमा समाज बस्तर संभाग के सदस्यों ने की मुलाकात : संभाग स्तरीय सामाजिक सामुदायिक भवन और संग्रहालय की मांग

chhattisgarh, special
रायपुर मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से आज यहाँ उनके निवास में बस्तर संभाग के कोया-कुटमा समाज के सदस्यों ने चित्रकोट विधायक श्री राजमन बेन्जाम के नेतृत्व में सौजन्य मुलाकात की। मुख्यमंत्री श्री बघेल से कोया-कुटमा समाज के सदस्यों ने संभाग स्तरीय सामाजिक  सामुदायिक भवन और बस्तर की सांस्कृति, पारम्परिक नृत्यों, शिल्प कलाओं, ऐतिहासिक धरोहरों एवं पुरातात्विक विरासतों को सहेजने के लिए संग्रहालय की स्वीकृति प्रदान करने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने उनकी इस मांग पर विचार का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री ने समाज के सदस्यों से बस्तर में वर्षा जल की उपलब्धता की जानकारी ली साथ ही बोधघाट बहुउद्देश्यीय परियोजना से किसानों एवं आमजन को होने वाले लाभ से भी अवगत कराया। उन्होंने बताया कि यह परियोजना पूर्णतः किसान हित में होगी जिससे वर्ष भर पानी की उपलब्धता बनी रहेगी और कृषि कार्यों के लिए वर्षा जल पर निर...
आमचो बस्तर कैंटिन : नक्सल हिंसा से पीड़ित परिवार के सदस्यों को मिला रोजगार का अवसर

आमचो बस्तर कैंटिन : नक्सल हिंसा से पीड़ित परिवार के सदस्यों को मिला रोजगार का अवसर

CG Govt, chhattisgarh
जगदलपुर। राज्य सरकार द्वारा नक्सल हिंसा से पीड़ित परिवारों को पुनर्वास नीति के तहत् मुआवजा राषि और रोजगार के अवसर मुहैया कराती है. इसी प्रयास में जिला प्रशासन बस्तर द्वारा जिले में नक्सल हिंसा से पीड़ित परिवार के सदस्यों को रोजगार का अवसर प्रदान किया है. आमचो बस्तर कैंटिन के नाम से चलित कैंटिन संचालन करने का दायित्व उनको दिया गया है. जिला प्रशासन के मार्गदर्शन में नगर निगम के द्वारा स्वास्थ्य विभाग की कंडम हुई एंबुलेंस को मॉडीफाई कर मोबाइल कैंटिन के रूप बनाया. इस मोबाइल कैंटिन को संचालन का दायित्व नक्सल प्रभावित परिवार के सदस्यों को समूह के रूप में दिया गया है. इस आमचो बस्तर कैंटिन को शहर के मध्य स्थित चौपाटी में स्थानीय व्यंजनों का विक्रय करने के लिए जगह दी गई. नक्सल हिंसा से पीड़ित परिवारो ने गांव छोड़कर शहर की ओर रूख किए उनमे जीने की ललक और रोजगार की चाहत को देखते हुए जिला प्रशासन ने...
मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान का असर, मलेरिया पीड़ितों की संख्या घटी

मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान का असर, मलेरिया पीड़ितों की संख्या घटी

chhattisgarh, Govt Schemes
बस्तर संभाग में मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान का असर दिखने लगा है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा इस साल जनवरी-फरवरी में इसके पहले चरण के दौरान 14 लाख लोगों से अधिक की जांच कर मलेरिया पॉजिटिव्ह पाए गए लोगों का तत्काल इलाज किया गया था। उस समय जांच किए गए 14 लाख छह हजार लोगों में से 64 हजार 646 (4.60 प्रतिशत) मलेरिया पीड़ित पाए गए थे। अभी अभियान के दूसरे चरण के दौरान मलेरिया पॉजिटिव्ह पाए गए लोगों की संख्या में उल्लेखनीय कमी देखी जा रही है। दूसरे चरण में अभियान का दायरा बढ़ाते हुए पहले से अधिक क्षेत्र एवं जनसंख्या को शामिल कर 23 लाख 46 हजार लोगों के परीक्षण का लक्ष्य रखा गया है। इस चरण में अब तक 22 लाख 34 हजार लोगों के रक्त की जांच की गई है जो कि लक्ष्य का 95.23 प्रतिशत है। इनमें से 1.31 प्रतिशत यानि 29 हजार 275 लोग मलेरिया पॉजिटिव्ह पाए गए हैं। पहले चरण के दौरान जांच में मिले थे 4.60 प्रतिशत मर...
बस्तर : वन अधिकार पत्र मिलने से वनवासियों हुए खुश, 40 हजार से अधिक परिवारों को मिला जीवन-यापन का जरिया

बस्तर : वन अधिकार पत्र मिलने से वनवासियों हुए खुश, 40 हजार से अधिक परिवारों को मिला जीवन-यापन का जरिया

chhattisgarh
बस्तर. वन अधिकार मान्यता पत्र देने की शासन की महत्वाकांक्षी योजना ने बस्तर जिले में वनभूमि पर पीढ़ियों से काबिज वनवासियों परिवारों के जीवन में खुशियों का नया दौर ला दिया है। वनअधिकार पट्टा मिल जाने से इन परिवारों के मन में वर्षों से समाया बेदखली का भय दूर हो गया है। वनभूमि पर काबिज परिवार अब बेहतर तरीके से खेती-किसानी करने लगे हैं। इस योजना के अंतर्गत अब तक कुल 40 हजार 85 हितग्राही लाभान्वित हो चुके हैं। इसके तहत् 34 हजार 566 व्यक्तिगत वन अधिकार पत्र और 5 हजार 519 सामुदायिक वन अधिकार पत्रक शामिल है। वनभूमि से बस्तर जिले के 40 हजार से अधिक परिवारों को मिला जीवन-यापन का जरिया वनभूमि का मालिकाना हक मिलने से काबिज परिवार बेहद खुश हैं। इसके लिए इन परिवारों ने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल का आभार जताते हुए उनका धन्यवाद ज्ञापित किया है। बस्तर जिले के बकावण्ड विकासखण्ड के चारगांव के आदिवास...
बस्तर के स्वादिष्ट काजू ने कोरोना संकट के समय में बढ़ाई वनवासी परिवारों की आमदनी, महिलाएं रोजगार मिलने से खुश

बस्तर के स्वादिष्ट काजू ने कोरोना संकट के समय में बढ़ाई वनवासी परिवारों की आमदनी, महिलाएं रोजगार मिलने से खुश

chhattisgarh, Govt Schemes, special
बस्तर. संकट काल में अंचल में रहने वाले वनवासी परिवारों की आमदनी बढ़ा दी है। नए स्वरूप में पैकेजिंग और बस्तर ब्रांड नेम से इसकी लांचिंग मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने हाल में ही की है। बस्तर के स्वादिष्ट काजू की मांग को देखते हुए इसे वन विभाग के संजीवनी स्टोर्स में उपलब्ध कराया गया है। राज्य सरकार ने वनांचल में रहने वाले लोगों को वनोत्पाद के जरिए रोजगार उपलब्ध कराने की मुहिम के चलते जहां फिर से बंद पड़े काजू प्रसंस्करण को फिर से शुरू किया गया वहीं काजू के समर्थन मूल्य में वृद्धि की गई है। बस्तर की जलवायु को काजू के लिए अनुकूलता को देखते हुए वहां के वन क्षेत्रों में सत्तर के दशक में काजू के पौधों का रोपण किया गया था। लेकिन वृक्षारोपण के बाद इसके संग्रहण के लिए न तो कोई मेकेनिजम बनाया गया और न ही प्रसंस्करण की ओर ध्यान नहीं दिया गया। जिसके कारण यहां के वनों में उत्पादित काजू ज्यादातर न...
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : बस्तर में स्वास्थ्य सुविधाएं इतनी बेहतर होंगी कि लोग इलाज कराने यहां आएंगे, 244 करोड़ रूपए लागत के 61 कार्यो का हुआ लोकार्पण

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : बस्तर में स्वास्थ्य सुविधाएं इतनी बेहतर होंगी कि लोग इलाज कराने यहां आएंगे, 244 करोड़ रूपए लागत के 61 कार्यो का हुआ लोकार्पण

chhattisgarh, entertainment, tourism
रायपुर। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज अपने रायपुर निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बस्तर जिले के मुख्यालय जगदलपुर स्थित महारानी अस्पताल में 07 करोड़ 27 लाख रूपए की लागत से कराए गए नवीन कार्यो का लोकार्पण किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि बस्तर के लोगों का महारानी अस्पताल से भावनात्मक लगाव है। नई सरकार महारानी अस्पताल को इस क्षेत्र के सर्वसुविधा सम्पन्न अस्पताल के रूप में विकसित करने का काम कर रही है। महारानी जिला अस्पताल की सुविधाएं देश के किसी भी जिला अस्पताल से कम  नहीं है। अभी बस्तर के लोगों को इलाज के लिए बाहर जाना पड़ता है। राज्य सरकार यहां अच्छी से अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के प्रयास कर रही है, जिससे बाहर के लोग भी बस्तर आकर अपना इलाज करा सकेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि बस्तर में स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए डॉक्टरों की कमी न हो इसका विशेष ध्यान रखा जाए। मुख्य...