Shadow

entertainment

33 साल बाद कल से दूरदर्शन पर फिर ‘रामायण और महाभारत’ का प्रसारण, अमरचित्र कथा कॉमिक्स एक महीने के लिए ऑनलाइन मुफ्त पढ़ सकेंगे

33 साल बाद कल से दूरदर्शन पर फिर ‘रामायण और महाभारत’ का प्रसारण, अमरचित्र कथा कॉमिक्स एक महीने के लिए ऑनलाइन मुफ्त पढ़ सकेंगे

entertainment, News
नई दिल्ली | देश में कोरोनावायरस का संकट लगातार गहरा रहा है। कोरोना के अब तक 700 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। देशभर में लॉकडाउन है। लोगों से घरों में रहने की अपील की जा रही है। इस बीच, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शुक्रवार को साफ किया कि जनता की मांग पर दूरदर्शन में शनिवार से लोकप्रिय रामायण और महाभारत सीरियल का प्रसारण होगा। रामायण का पहला एपिसोड कल सुबह 9 बजे और दूसरा कल ही रात 9 बजे दिखाया जाएगा। दूरदर्शन पर पहली बार रामायण का प्रसारण 25 जनवरी 1987 में शुरू हुआ और आखिरी एपिसोड 31 जुलाई 1988 को देखने को मिला था। जनता की मांग पर कल शनिवार 28 मार्च से 'रामायण' का प्रसारण पुनः दूरदर्शन के नेशनल चैनल पर शुरू होगा। पहला एपिसोड सुबह 9.00 बजे और दूसरा एपिसोड रात 9.00 बजे होगा । @narendramodi @PIBIndia@DDNational — Prakash Javadekar (@PrakashJavdekar) March 27, 2020 &n
मैनपाट महोत्सव 2020 : मुख्यमंत्री करेंगे 29 फरवरी को मैनपाट महोत्सव का शुभारंभ

मैनपाट महोत्सव 2020 : मुख्यमंत्री करेंगे 29 फरवरी को मैनपाट महोत्सव का शुभारंभ

chhattisgarh, entertainment, News, special, sports
सरगुजा जिले का प्रसिद्ध मैनपाट महोत्सव के तीन दिवसीय कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा किया जाएगा। समारोह की अध्यक्षता संस्कृति मंत्री श्री अमरजीत भगत करेंगे और समारोह में प्रदेश के मंत्रीगण सहित अन्य विशिष्ट अतिथि शामिल होंगे। मैनपाट महोत्सव का शुभारंभ रोपाखार जलाशय के पास 29 फरवरी को दोपहर 2.30 बजे किया जाएगा। 29 फरवरी से दो मार्च तक चलने वाले मैनपाट महोत्सव में आकर्षण का प्रमुख केन्द्र नौकायन, जूमरिंग, आर्चरी, पतंग उत्सव, राज्य स्तरीय सायकल रेस, पैरा सीलिंग, रैपलिंग, टेªम्पोलिन, वैलीक्रासिंग, हैंगिंग बॉल सहित अन्य एडवेंचर स्पोर्टस होंगे। साथ ही विभिन्न सांस्कृतिक दलों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति भी दी जाएगी।
राष्ट्रीय कृषि मेला का समापन समारोह 25 फरवरी को, राज्यपाल होंगी मुख्य अतिथि, अध्यक्षता विधानसभा अध्यक्ष करेंगे

राष्ट्रीय कृषि मेला का समापन समारोह 25 फरवरी को, राज्यपाल होंगी मुख्य अतिथि, अध्यक्षता विधानसभा अध्यक्ष करेंगे

chhattisgarh, entertainment, News
रायपुर जिले के तुलसी बाराडेरा में आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय कृषि मेला का समापन 25 फरवरी को अपरान्ह 3 बजे गरिमामय समारोह में होगा। राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके समारोह की मुख्य अतिथि होंगी। समारोह की अध्यक्षता विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत करेंगे। फल-सब्जी उपज मण्डी प्रांगण तुलसी बाराडेरा में आयोजित समापन समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव, गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री श्री रविन्द्र चौबे, वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर. स्कूल शिक्षा मंत्री श्री प्रेमसाय सिंह टेकाम, नगरीय प्रशासन मंत्री श्री शिव डहरिया, खाद्य मंत्री श्री अमरजीत भगत, उद्योग मंत्री श्री कवासी लखमा, राजस्व मंत्री श्री जयसिंह अग्रवाल, उच्च शिक्षा मंत्री श्री उमेश पटेल, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेंडि़या, ग्रामोद्योग मंत्री गुरू रूद्रकुमार, रा
रायपुर राष्ट्रीय कृषि मेला 2020 : नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी पर आधारित झांकी का होगा जीवंत प्रदर्शन

रायपुर राष्ट्रीय कृषि मेला 2020 : नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी पर आधारित झांकी का होगा जीवंत प्रदर्शन

chhattisgarh, entertainment, News, special
रायपुर. राष्ट्रीय कृषि मेला का आयोजन रायपुर जिले के फल-सब्जी उप मंडी तुलसी बाराडेरा में 23 से 25 फरवरी तक किया जाएगा। मेला में शासन की महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी पर आधारित जीवंत झांकी का प्रदर्शन भी किया जाएगा। इसमें योजना के लागू होने से पशुधन के संरक्षण, संवर्धन तथा ग्रामीण अर्थव्यवस्था में हो रही वृद्धि के बारे में विस्तार से अवगत कराया जाएगा। साथ ही पशुधन से प्राप्त होने वाले गोबर तथा गो-मूत्र इत्यादि से तैयार की जाने वाली उत्पादों का प्रदर्शन किया जाएगा। राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण अर्थव्यवस्था के चार आधार स्तभों को ध्यान में रखते हुए सुराजी गांव की परिकल्पना की गई है। इस अवधारणा को मूर्तरूप देने के लिए कृषि एवं संबंद्ध विभाग के साथ-साथ ग्रामीण विकास, जल संसाधन, राजस्व, ग्रामोद्योग तथा ऊर्जा आदि विभागों द्वारा महती भूमिका निभायी जा रही है। इसमें नरवा कार्यक्रम
मुख्यमंत्री ने राजिम माघी पुन्नी मेले की प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं, आज शाम 7 बजे मुख्य मंच राजिम से करेंगे मेला का शुभारंभ

मुख्यमंत्री ने राजिम माघी पुन्नी मेले की प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं, आज शाम 7 बजे मुख्य मंच राजिम से करेंगे मेला का शुभारंभ

chhattisgarh, entertainment, News, special
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने 9 फरवरी से राजिम में प्रारंभ हो रहे माघी पुन्नी मेला और शिवरीनारायण मेले की प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी है। श्री बघेल ने कहा है कि राजिम में महानदी, पैरी और सोंढूर नदियों के पवित्र त्रिवेणी संगम में सदियों से इस मेले का आयोजन हो रहा है। छत्तीसगढ़ ही नहीं आसपास के राज्यों के लोग भी बड़ी संख्या में श्रद्धा के साथ इस मेले में शामिल होते हैं। राज्य सरकार द्वारा छत्तीसगढ़ की गौरवशाली सांस्कृतिक परम्पराओं को संरक्षित और संवर्धित करने के प्रयासों के तहत राजिम माघी पुन्नी मेले को उसके प्राचीन मूल स्वरूप में फिर से आयोजित किया जा रहा है। माघ पूर्णिमा पर शिवरीनारायण में महानदी, शिवनाथ और जोंक नदी के पावन संगम पर शुरू होने वाले मेले में भी लोग बड़ी श्रद्धा और आस्था के साथ शामिल होते है। श्री बघेल ने महानदी के तट पर सिरपुर में कल से प्रारंभ हो रहे सिरपुर म
रायपुर : लाल किला प्रांगण में भारत पर्व का आयोजन, छत्तीसगढ़ के कलाकारों ने दी मनमोहक प्रस्तुति, दर्शकों ने की प्रशंसा

रायपुर : लाल किला प्रांगण में भारत पर्व का आयोजन, छत्तीसगढ़ के कलाकारों ने दी मनमोहक प्रस्तुति, दर्शकों ने की प्रशंसा

chhattisgarh, entertainment, india, News
नई दिल्ली के लाल किला प्रांगण में भारत पर्व का आयोजन किया गया। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ के लोक कलाकारों ने छत्तीसगढ़ की पारम्परिक लोक गीत, नृत्य प्रस्तुत करके दर्शकों का दिल जीत लिया। यहां के कलाकारों ने कर्मा, ददरिया के साथ-साथ देशभक्ति गीत के साथ नृत्य प्रस्तुत किया। आयोजन स्थल पर छत्तीसगढ़ की झांकी को देखकर दर्शकों ने खूब प्रशंसा की। आयोजन में छत्तीसगढ़ की झांकी लोगों के लिए आकर्षण का केन्द्र रही। छत्तीसगढ़ के वनांचल के लोक कलाकारों ने मांदर के थाप पर कदम से कदम मिलाकर लयबद्ध आकर्षक नृत्य प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ के 16 कलाकारों ने अपने प्रतिभा का प्रदर्शन किया और तालियां बटोरी। कलाकारों ने गणेश वंदना, भारत माता वंदना भी प्रस्तुत किया। उल्लेखनीय है कि नई दिल्ली के लाल किला प्रांगण में भारत पर्व का आयोजन केन्द्रीय पर्यटन मंत्रालय एवं अन्य मंत्रालयों और राज्य सरकारों के सहयोग से
रायपुर : नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया ने छत्तीसगढ़ी फिल्म ‘जोहार छत्तीसगढ़‘ देखी, बताया प्रदेशवासियों के लिए प्रेरणाप्रद

रायपुर : नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया ने छत्तीसगढ़ी फिल्म ‘जोहार छत्तीसगढ़‘ देखी, बताया प्रदेशवासियों के लिए प्रेरणाप्रद

chhattisgarh, entertainment, News, special
रायपुर। नगरीय प्रशासन और श्रम मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया ने आज श्याम टॉकिज जाकर छत्तीसगढ़ी फिल्म ‘जोहार छत्तीसगढ़‘ देखा। डॉ. डहरिया ने फिल्म देखने के बाद प्रतिक्रिया में कहा कि राज्य सरकार के गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ के तर्ज पर छत्तीसगढ़ी संस्कृति, परंपरा और छत्तीसगढ़ महतारी को लेकर फिल्म जोहार छत्तीसगढ़ बनी है। यह फिल्म प्रदेशवासियों के लिए काफी प्रेरणाप्रद है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ की संस्कृति, परंपरा के संरक्षण और संवर्धन के लिए नरवा, गरवा, घुरवा और बाड़ी योजना शुरू की गई है। इसके साथ ही मैदानी क्षेत्रों के साथ-साथ दुरस्थ वनांचल के गरीबों, पिछड़ों और आदिवासियों सहित सभी वर्गाें के विकास के लिए निरंतर प्रयास की जा रही है। डॉ. डहरिया ने कहा कि राज्य सरकार छत्तीसगढ़ी फिल्म को हमेशा से ही प्रोत्साहन देते रहे हैं। आगे भी हरसंभव मदद किया जाएगा। इस मौके पर विधायक श्री कुलदीप
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की हुई रायपुर एयरपोर्ट में फिल्मस्टार धर्मेंद्र और रंजीत से अचानक मुलाकात

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की हुई रायपुर एयरपोर्ट में फिल्मस्टार धर्मेंद्र और रंजीत से अचानक मुलाकात

chhattisgarh, entertainment, News, special
रायपुर. स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और अन्य मुख्यमंत्रियों का स्वागत करने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पहुंचे थे। वहां उन्हें पता चला कि बॉलीवुड अभिनेता धर्मेंद्र और रंजीत आ रहे हैं, तो वह बुके लेकर उनका स्वागत करने भी पहुंच गए। दोनों अभिनेता मुख्यमंत्री को अगवानी करते देख खुश हो गए। सीएम ने दाेनों सितारों से काफी बात की, बाद में दोनों अपने गंतव्य को रवाना हो गए। वह यहां एक कार्यक्रम में भाग लेने आए हैं। दरअसल, नवा रायपुर में हो रही इंटरस्टेट काउंसिल में शामिल होने के लिए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह सहित यूपी, एमपी और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पहुंचे हैं। इनके स्वागत के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल एयरपोर्ट पर पहुंचे हुए थे। इसी दौरान एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए फिल्म स्टार धर्मेंद्र और रंजीत भी रायपुर आए। एयरपोर्ट लॉबी में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को अपने
छत्तीसगढ़ के संगीतज्ञ मदन सिंह चौहान को पद्मश्री सम्मान की घोषणा होने पर मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया

छत्तीसगढ़ के संगीतज्ञ मदन सिंह चौहान को पद्मश्री सम्मान की घोषणा होने पर मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया

chhattisgarh, entertainment, india, News
रायपुर। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज गणतंत्र दिवस के अवसर पर महंत घासीदास संग्रहालय के मुक्ता काशी मंच में आयोजित सांस्कृतिक संध्या में शामिल हुए।  मुख्यमंत्री ने इस मौके पर छत्तीसगढ़ के संगीतज्ञ श्री मदन सिंह चैहान गुरूजी को कला के क्षेत्र में पद्मश्री सम्मान की घोषणा होने पर सम्मानित किया और उन्हें बधाई और शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने लोक गायक श्री सुनील तिवारी का भी सम्मान किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने रायपुर के पुलिस परेड मैदान में निकाली गई झांकियों में  प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले झांकी को पुरस्कार प्रदान किया। प्रथम पुरस्कार ग्रामोद्योग विभाग के झांकी को दिया गया। मुख्यमंत्री के हाथों पुरस्कार ग्रहण ग्रामोद्योग विभाग के सचिव श्री हेमंत पहारे ने किया। इसी प्रकार द्वितीय पुरस्कार जेल विभाग के झांकी को मिला। पुरस्कार ग्रहण जेल विभाग के श्री संजय पिल्ले और
गणतंत्र दिवस 2020 : कल छत्तीसगढ़ की शिल्पकला और आभूषण वाली झांकी का होगा राजपथ नई दिल्ली में प्रदर्शन

गणतंत्र दिवस 2020 : कल छत्तीसगढ़ की शिल्पकला और आभूषण वाली झांकी का होगा राजपथ नई दिल्ली में प्रदर्शन

chhattisgarh, entertainment, india, News
रायपुर। गणतंत्र दिवस पर राजपथ पर निकलने वाली राज्यों की झांकियों का आज नई दिल्ली की राष्ट्रीय रंगशाला में राष्ट्रीय मीडिया के समक्ष पूर्व अवलोकन के लिए प्रदर्शन किया गया। प्रेस प्रिव्यू के दौरान छत्तीसगढ़ की परंपरागत शिल्पकला और आभूषण पर आधारित झांकी को राष्ट्रीय मीडिया के सामने प्रस्तुत किया गया। प्रेस प्रिव्यू के दौरान छत्तीसगढ़ की झांकी के समक्ष छत्तीसगढ़ के लोक कलाकारों ने (ककसार) नृत्य प्रस्तुत किया। छत्तीसगढ़ की झांकी में छत्तीसगढ़ के लोक जीवन, परम्परा और जनजातीय समाज की शिल्पकला को रेखांकित किया गया है। झांकी में शिल्पकला और आभूषणों के साथ ही प्रतिमाओं और दैनिक जीवन में उपयोग होने वाली वस्तुओं को देखा जा सकता है। झांकी के सामने वाले हिस्से में नंदी की प्रतिमा है, जिसे शिल्पकार ने बेलमेटल से तैयार किया है। यह छत्तीसगढ़ के ढोकरा-शिल्प का बेहतरीन नमूना है। अत्यंत सुंदरता के साथ अल