Shadow

रायपुर : क्वारंटाईन सेंटर्स में बच्चों के लिए खेल सामग्री और महिलाओं को गरिमा किट

रायपुर. छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा प्रदेश के सभी क्वारंटाईन सेंटर्स में प्रवासी लोगों को सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गए हैं। सेंटर्स में अपने माता-पिता के साथ ठहरे बच्चों के शारीरिक और बौद्धिक विकास पर भी छत्तीसगढ़ सरकार ध्यान दे रही है। यहां बुनियादी सुविधाओं के साथ-साथ महिलाओं और किशोरियों के स्वास्थ्यगत जरूरतों का भी ध्यान रखा जा रहा है।

बालोद जिले के क्वारंटाईन सेंटर्स में बाल विकास विभाग द्वारा बच्चों को ड्राईंग शीट और अलग-अलग गतिविधियों से संबंधित खेल सामग्री उपलब्ध कराई गयी है। इससे बच्चों में रचनात्मक और कलात्मक विकास के साथ ही उनका समय भी खेल-खेल में उत्साहपूर्वक व्यतीत होगा। खेल सामाग्री मिलने से बच्चे और उनके माता-पिता बहुत खुश हैं। बच्चों द्वारा अपनी रूचि के अनुसार अलग-अलग ड्राईंग बनाई जा रही है। इससे बच्चों के चेहरों पर खुशी देखने को मिल रही है। शासन-प्रशासन की इस पहल पर बच्चों के माता-पिता ने आभार व्यक्त किया है।

क्वारेंटाईन सेंटर में रह रहीं 341 महिलाओं और किशोरियों को भी उनके स्वास्थ्य सुरक्षा व स्वच्छता के लिए गरिमा किट प्रदान किया गया है। गरिमा किट में सेनेटरी नैपकिन और डिस्पोजल पेपर बैग जैसी स्वच्छता सामग्री रखे गई हैं। इसके साथ ही क्वारंटाईन सेंटर्स में ठहरे प्रवासी व्यक्तियों की सुविधाओं का ध्यान रखते हुए विशेष प्रबंध किये गए है। कलेक्टर भी क्वारंटाईन सेंटर्स में मूलभूत सुविधाओं की व्यवस्था का लगातार निरीक्षण कर रहे हैं।

क्वारंटाईन सेंटर्स की व्यवस्था से संतुष्ट हो कर प्रवासी लोगों ने कहा कि यहां उन्हें घर जैसा माहौल मिल रहा है। डौण्डीलोहारा तहसील के ग्राम भीमकन्हार के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में बनाए गए क्वारंटाईन सेंटर में ठहरे नेमीचंद केराम ने बताया कि यहां सुबह का नाश्ता, दोपहर और रात का भोजन मिलता है। बिजली, पंखा, पानी की सुविधा उपलब्ध है। यहां अब अच्छा लगने लगा है। मितानिन प्रतिदिन आती हैं और स्वास्थ्य संबंधी जानकारी लेती है। ग्राम के सरपंच श्री पोषण लाल साहू ने बताया कि क्वारंटाईन सेंटर में सेनेटाईजर और हैण्डवाश के साथ यहां शौचालयों में फिनाइल भी उपलब्ध कराया गया है। प्रवासी व्यक्तियों की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए ग्राम के आयुर्वेद औषधालय द्वारा प्रतिदिन काढ़ा दिया जाता है। प्रवासियों को यहां सुविधाएं देने की कोशिश की जा रही है जिससे वे घर से दूर आराम से रह सकें। स्कूल के शिक्षक श्री शत्रुहन शाह ने बताया कि क्वारंटाईन सेंटर में उनकी ड्यूटी लगी है। वे प्रतिदिन तीन समय आकर बाहर से ही प्रवासियों के संबंध में जानकारी लेते हैं। उन्होंने बताया कि स्कूल में पहले से ही सी.सी.टी.वी.कैमरा लगे होने से यह परिसर सुरक्षित भी है। महिलाओं, किशोरियों सहित सभी प्रवासी लोगों ने क्वारेंटाईन सेंटर की व्यवस्थाओं और उनका ध्यान रखने के लिए शासन का आभार प्रकट किया है।

RO-11274/73

Leave a Reply