Shadow

मुख्यमंत्री ने राजभवन पहुंच कर झीरम श्रद्धांजलि दिवस पर शहीदों को दी गई विनम्र श्रद्धांजलि, विभागों में शपथ ली गयी

cm-bhupesh-shradanjli-jheeram-diwas

रायपुर। आज 25 मई को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा ‘झीरम श्रद्धांजलि दिवस’ की घोषणा गयी थी, झीरम घाटी काण्ड में शहिद हुए कांग्रेस के शहीद नेताओ को याद किया गया। मुख्यमंत्री ने राजभवन पहुंच कर ‘झीरम श्रद्धांजलि दिवस’ पर शहीदों को दी गई विनम्र श्रद्धांजलि एवं श्रद्वा सुमन अर्पित की। उन्होंने बस्तर विश्वविद्यालय का नामकरण अब मशहूर वरिष्ठ नेता शहीद स्वर्गीय श्री महेंद्र कर्मा के नाम पर घोषणा की, स्वर्गीय श्री महेंद्र कर्मा को बस्तर टाइगर के नाम से भी जाना जाता था।

झीरम श्रद्धांजलि दिवस के अवसर पर राजभवन में दी गई श्रद्धांजलि

झीरम श्रद्धांजलि दिवस के अवसर पर आज राजभवन में सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा दो मिनट का मौन धारण कर झीरम घाटी के नक्सली हिंसा में शहीद हुए नेताओं एवं सुरक्षा बलों के जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। इस अवसर पर राज्यपाल के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।

अधिकारी-कर्मचारियों ने राज्य को पुनः शांति का टापू बनाने की ली शपथ

छत्तीसगढ़ में आज झीरम श्रद्धांजलि दिवस मनाया गया। मंत्रालय महानदी भवन में मंत्रालयीन अधिकारी और कर्मचारियों ने बस्तर के झीरम घाटी में 25 मई 2013 को नक्सली हिंसा में हुए शहीदों की स्मृति में दो मिनट का मौन धारण कर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर विगत वर्षों में नक्सल हिंसा में शहीद हुए अन्य नागरिकांे और सुरक्षाकर्मियों को भी श्रद्धांजलि दी गई। मंत्रालयीन अधिकारी कर्मचारियों ने झीरम श्रद्धांजलि दिवस के अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य को पुनः शांति का टापू बनाने के लिए सभी संकल्पित रहने की शपथ ली।

इसी प्रकार से आज झीरम श्रद्धांजलि दिवस पर राज्य के सभी शासकीय और अर्ध शासकीय कार्यालयों में शहीदों की स्मृति में दो मिनट का मौन धारण किया गया और शपथ ली गई। श्रद्धांजलि दिवस के कार्यक्रम के दौरान कोरोना वायरस (कोविड-19) से बचाव और रोकथाम के लिए अधिकारी कर्मचारियों द्वारा सोशल और फिजिकल डिस्टेसिंग का पालन किया गया।

RO-11274/73

Leave a Reply